International Journal of Multidisciplinary Research and Development

International Journal of Multidisciplinary Research and Development

Online ISSN: 2349-4182
Print ISSN: 2349-5979

Vol. 2, Issue 10 (2015)

नागपूर शहर में भोसला शासन कालीन मंदिर (1740-1860)

Author(s): डाॅ. नलिनी टेंभेकर
Abstract: मंदिर यह किसी भी प्रदेश की सांस्कृतिक और धार्मिक धरोहर होते है और उस प्रदेश की परंपरा को जतन करते हेै। नागपूर शहर में भोंसले शासन काल मे अनेक मंदिरों का निर्माण हुआ। तददेवगांव की सन्धी के अनुसार 1803 में भोंसले शासन के काम काज का निरिक्षण करने के लिए अंग्रेजो ने एलफिस्टन नामक अधिकारी को भोंसला दरबार में भेजा। एल्फीन्स्टन अपने साथ बिचैलिए के तौर पर विनायक औरगांबादकर नामक व्यक्ति को ले गया था। उसने अपने हस्तलिखित डायरी मे 98 छोटे-बडे मंदिरों की सुची दी है। इनमे से अधिकांश भोसले शासकों द्वारा निर्माण किए गये है। कुछ धनी व्यक्तियों द्वारा और कुछ सरदारों द्वारा बनाएँ गये है। इनमे 54 शिव मंदिर, 24 मारूती मंदिर, 06 विट्ठल-रूखमाई मंदिर, 02 मुरलीधर मंदिर, 03 लक्ष्मी नारायण मंदिर, 04 गणेश मंदिर और अन्य कुछ मंदिर शामील है। इनमे से अधिकाश आज भी विद्यमान है और नागपूरी शिल्प के प्रतिक है।तद
Pages: 405-407  |  775 Views  293 Downloads
Journals List Click Here Research Journals Research Journals